जानिए आखिर महिलाएं हमेशा बाई ओर ही क्‍यों छिदवाती है अपना नाक

Rochak News 21-09-2018 09:27:10
Know why women always waste their noses

नई दिल्ली। नाक छिदवाना भारतीय संस्कृति और परंपरा के हिसाब से बहुत जरूरी माना जाता है। लेकिन बहुत कम लड़कियां जानती है कि यह स्त्री की खूबसूरती बढ़ाने के साथ-साथ सेहत के ल‍िए भी लाभकारी है। भारतीय महिलाओं के नाक छिदवाने के पीछे का कारण बेहद कम लोग जानते होंगे। अधिकतर महिलाएं इसे सिर्फ शृंगार से जोड़कर ही देखती हैं।

 

नाक में छेद करवाने के लिए कोई विशेष उम्र नहीं होती। इसे बचपन, किशोरावस्था, वयस्क होने पर कभी भी करवा सकते हैं। गर्भावस्था में भी महिलाएं नाक छिदवा सकती है। इससे शिशु पर कोई नकारात्मक असर नहीं पड़ता है। 

 

ू
वेदों और शास्त्रों में लिखा गया है कि नाक छिदवाने से महिला को माहवारी पीड़ा से राहत मिलती है। इसके अलावा प्रसव के दौरान शिशु को जन्म देने में आसानी होती है। नाक छिदवाने से माइग्रेन में भी राहत मिलती है।

ू

वहीं दूसरी और चिकित्सकों का कहना है कि नाक छिदवाने से महिला को माइग्रेन नहीं होता है। महिला के बाई ओर के नाक को छेदने महिला के प्रजनन अंगों पर विपरित असर नहीं पड़ता है। लड़कियों की बाई ओर की नाक छेदी जाती है क्योंकि उस जगह की नसें नारी के महिला प्रजनन अंगों से जुडी हुई होती हैं। नाक के इस हिस्से पर छेद करने से महिला को प्रसव के समय भी कम दर्द का सामना करना पड़ता है। इस वजह से बाई ओर नाक छिदवाई जाती है।

ू

कुछ लोगों का कहना है कि बाईं तरफ का कान छेदने से महिला को बल्ड प्रेशर जैसी परेशानी नहीं होती है। वहीं आध्यात्मिक कारण यह भी है कि महिला अपने आधे अंग को पुरूष के लिए रखती है इसलिए बाई ओर का हिस्सा अपना मानकर उसे छिदवा लेती है।

रहस्य रोचक न्यूज़ महिलाएं छिदवाती नाक mystery interesting news women chhadiya nose
Sanjeevni Today News

Similar Post You May Like